चोरी करने का गिरोह व चोरी का माल खरीदने का आरोपी चढ़ा पुलिस के हत्थे - Discovery Times (Maharashtra)

Breaking

Ad

Post Top Ad

Responsive Ads Here

चोरी करने का गिरोह व चोरी का माल खरीदने का आरोपी चढ़ा पुलिस के हत्थे

                                     

जिला पुलिस कुरुक्षेत्र की अपराध अन्वेषण शाखा-1 ने ट्रांसफार्मर चोरी करने के गिरोह व चोरी का माल खरीदने के आरोपियों को काबु करने में सफलता मिली। जिला कुरुक्षेत्र की अपराध अन्वेषण शाखा-1 ने ट्रांसफार्मर चोरी गिरोह के जाहुल पुत्र मवाशी, आस मोहम्द पुत्र कमरुदीन खान वासीयान गांव लपाला जिला अलवर राजस्थान, मुबारीक खान पुत्र हमीद खान वासी महराजपुरा जिला अलवर राजस्थान, फारुख खान पुत्र आकुब खान गांव निचला गोढडा जिला अलवर राजस्थान  व अजमील पुत्र अनवाल हुसैन वासी ईदजागीर जिला बरेली उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार करके उनसे ट्रांसफार्मर चोरी की करीब 40 वारदातों को सुलझाने में कामयाबी हासिल की है। यह जानकारी पुलिस अधीक्षक कुरुक्षेत्र श्री राजेश दुग्गल ने दी।


यह जानकारी देते हुए श्री राजेश दुग्गल ने बताया कि जिला कुरुक्षेत्र में ट्रांसफार्मर की चोरी की वारदातें काफी बढ़ रही थी जिन पर अंकुश लगाने के लिए अपराध अन्वेषण शाखा-1 व 2 को निर्देश दिए कि ट्रांसफार्मर की चोरियों पर तुरन्त रोक लगाई जाए। दिनांक 15 सितंबर 2020 को उत्तरी हरियाणा बिजली वितरण निगम अजराना कलां के उप मंडल अधिकारी ने थाना झांसा में दी अपनी शिकायत में बताया कि दिनांक 13/14 सितंबर की रात को नसीब सिंह, बाबू राम वासीयान धुराला, चानन सिंह व प्रीत पाल वासीयान धुराली के खेतों में लगे बिजली के ट्रांसफार्मरों से कोई अज्ञात चोर तांबे की तारे व लोहा पत्ती चोरी करके ले गया है। जिसकी शिकायत पर थाना झांसा में ट्रांसफार्मर चोरी का मामला दर्ज करके जांच अपराध अन्वेषण शाखा- 1 को प्रभारी निरीक्षक प्रतीक कुमार को सौंपी गई। जिसके मार्ग निर्देशन में ए एस आई विनोद कुमार, हवलदार सुरेन्द्र कुमार, नरेश कुमार, अरविंद कुमार व सिपाही संजीव की टीम गश्त व अपराध तलाश के संबंध में थाना सदर थानेसर के एरिया में मौजुद थी। पुलिस टीम को गुप्त सूचना मिली कि रात के समय ट्रांसफार्मरों की चोरी करने का गिरोह इस समय ब्रेजा कार नम्बर RJ-02CE-9367 में गांव ईशरगढ़ के आस-पास वारदात करने की फिराक में हैं। जिस सूचना पर पुलिस की टीम ने राजस्थान नम्बर की ब्रेजा कार को ईशरगढ़ मोड़ से काबु करके चैक किया तो उसमें चार लोग सवार मिले। पुलिस ने चारों आरोपियों को काबु करके उनके नाम पते पुछे जिन्होंने अपने नाम जाहुल पुत्र मवाशी, आस मोहम्द पुत्र कमरुदीन खान वासीयान गांव लपाला जिला अलवर राजस्थान, मुबारीक खान पुत्र हमीद खान वासी महराजपुरा जिला अलवर राजस्थान, फारुख खान पुत्र आकुब खान गांव निचला गोढडा जिला अलवर राजस्थान  बताए। कार की तलाशी लेने पर कार की डिग्गी से एक प्लास्टिक के कट्टा में एक प्लास, दो पाने, पांच चाबी, एक हथौड़ी, एक छैनी व 9 लोहा आरी को ब्लेड मिले। जिनसे गहनता ने पुछताछ करने पर आरोपियों ने स्वीकार किया कि वह ट्रांसफार्मरों से तार तांबा व लोहे की पत्तियां चोरी करके ले जाते है। जिन्होंने स्वीकार किया कि उन्होंने करीब एक महीना पहले गांव धुराला के आस-पास से एक ही रात में करीब 4/5 ट्रांसफार्मरों की तारें व पत्तियां चोरी की थी। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार करके दिनांक 16 अक्तुबर 2020 को माननीय अदालत में पेश करके आगामी जांच हेतु 4 दिन का पुलिस रिमान्ड लिया। आरोपियों ने पुलिस रिमांड अवधि के दौरान स्वीकार किया कि उन्होंने पिछले 6 महीनों में कुरुक्षेत्र के एरिया से करीब 60/70 ट्रांसफार्मरों से तार तांबा व लोहा पत्ती चोरी की हैं। चोरी किया गया सामान अजमील पुत्र अनवाल हुसैन वासी ईदजागीर जिला बरेली उत्तर प्रदेश को बेच देते हैं। पुलिस ने चोरी का सामान खरीदने के आरोपी अजमील पुत्र अनवाल हुसैन वासी ईदजागीर जिला बरेली उत्तर प्रदेश को भी गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने जिला कुरुक्षेत्र से ट्रांसफार्मर चोरी की 39 वारदातों को सुलझाया है। आरोपियों से गहनता से पुछताछ करने पर इस गिरोह के सरगना जाहुल पुत्र मवाशी वासी गांव लपाला जिला अलवर राजस्थान ने स्वीकार किया कि वह करीब ¾ साल से ट्रांसफार्मरों की चोरी करते आ रहें हैं। इन्होंने यह भी स्वीकार किया कि वह दिन के समय ब्रेजा कार में ट्रांसफार्मरों की रैकी कर लेते थे और ट्रांसफार्मर का रंग देखकर पहचान कर लेते थे कि इसमें तांबे की कोइल है या एल्युमिनियम की। कुरुक्षेत्र के एरिया में वह जनवरी 2020 से वारदातें करते आ रहे हैं। वारदात करते समय अगर किसी ट्रांसफार्मर में वैल्डिंग मिलती थी तो उसको आरी से काटकर ट्रांसफार्मर को निचे गिराकर चोरी करके चोरी का सामान कार में रखकर फरार हो जाते थे। कार फारुख खान पुत्र आकुब खान गांव निचला गोढडा जिला अलवर राजस्थान  की है, जिसको कार प्रयोग करने के बदले अलग से पैसे देते थे। जांच जारी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ad