गांधी जयंती पर शाहरुख की पोस्ट सयानी का तंज, 'सच के लिए बोलना सीखें' - Discovery Times (Maharashtra)

Breaking

Ad

Post Top Ad

Responsive Ads Here

गांधी जयंती पर शाहरुख की पोस्ट सयानी का तंज, 'सच के लिए बोलना सीखें'

अब जब सोशल मीडिया पर शाहरुख खान की ये पोस्ट वायरल हो गई, तब फोर मोर शॉट्स फेम एक्ट्रेस सयानी गुप्ता ने एक्टर पर तंज कसते हुए एक ट्वीट किया. उन्होंने अपने ट्वीट के जरिए शाहरुख को नसीहत दी कि सच बोलने की हिम्मत सभी में होनी चाहिए
गांधी जंयती के मौके पर पूरा देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को याद कर रहा है, उनके आदर्शों पर चलने की कोशिश कर रहा है. बॉलीवुड भी इस दिन सोशल मीडिया पर अलग-अलग पोस्ट के जरिए लोगों को संदेश देने की कोशिश कर रहे थे . शाहरुख खान ने भी एक पोस्ट शेयर की थी. उनकी पोस्ट में ये संदेश था- बुरा ना बोलो, बुरा ना देखो, बुरा ना सुनो.
शाहरुख खान ने अपने सन्देश के जरिए एक बड़ा संदेश देनी की कोशिश तो की थी, लेकिन सभी की नजर गई उस फोटो पर जो उन्होंने अपनी पोस्ट संग शेयर की थी. पोस्ट में शाहरुख ने अपनी बेटी सुहाना की फोटो शेयर की है. फोटो में सुहाना ने अपनी आंखों पर हाथ रखा हुआ है जो दिखाता है कि बुरा नहीं देखना चाहिए. ट्वीट में शाहरुख ने लिखा है- इस गांधी जंयती अगर हम अपने बच्चों को कुछ सिखाना चाहे या फिर कुछ ऐसा बताना चाहे जो उनके अच्छे-बुरे समय में काम आए, तो वो है- बुरा मत सुनो, बुरा मत देखो और बुरा मत बोलो. शाहरुख की इस पोस्ट को सुहाना की पोस्ट से जोड़कर देखा जा रहा है जिसमें उन्होंने अपनी स्किन टोन को लेकर बड़ी बात बोली थी.
अब जब सोशल मीडिया पर शाहरुख खान की ये पोस्ट वायरल हो गई, तब फोर मोर शॉट्स फेम एक्ट्रेस सयानी गुप्ता ने एक्टर पर तंज कसते हुए एक ट्वीट किया. उन्होंने अपने ट्वीट के जरिए शाहरुख को नसीहत दी कि सच बोलने की हिम्मत सभी में होनी चाहिए और सही के लिए आवाज भी उठानी चाहिए. ट्वीट कर वे लिखती हैं- सही तो बोलना ही चाहिए. गांधी जी ने हमे ये भी सिखाया है कि सत्य के लिए बोलना चाहिए, पीड़ितों के लिए आवाज उठानी चाहिए, दलित भाई-बहनों के हक के लिए बोलना चाहिए. सिर्फ अपने आंख-कान बंद नहीं कर लेने चाहिए.


शाहरुख पर सयानी गुप्ता का निशाना?

सयानी गुप्ता ने अपनी पोस्ट के जरिए सीधे तौर पर शाहरुख की चुप्पी पर सवाल खड़े कर दिए हैं. उन्होंने अपने इस ट्वीट में शाहरुख को टैग तक कर रखा है. अब क्योंकि उन्होंने पोस्ट में दलित शब्द का इस्तेमाल किया है, इससे ये समझा जा सकता है कि वे हाथरस कांड में शाहरुख की चुप्पी से खुश नहीं हैं. उनकी नजरों में ऐसे मुद्दों पर खुलकर बोलना चाहिए और पीड़ितों का सहरा बनना चाहिए. सोशल मीडिया पर लोगों की तरफ से इस पोस्ट पर मिक्स रिस्पॉन्स देखने को मिल रहा है. कोई अगर सयानी के विचारों से सहमत नजर आ रहा है तो कोई शाहरुख ने अच्छे कामों को गिना रहा है.
















कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ad