विदेश भेजने के नाम पर 14 लाख रुपये की धोखाधडी करने के आरोप में एक गिरफ्तार। - Discovery Times (Maharashtra)

Breaking

Ad

Post Top Ad

Responsive Ads Here

विदेश भेजने के नाम पर 14 लाख रुपये की धोखाधडी करने के आरोप में एक गिरफ्तार।

 कुरुक्षेत्र 7 अप्रैल: जिला पुलिस कुरुक्षेत्र ने विदेश भेजने के नाम पर 14 लाख रुपये की धोखाधडी करने के आरोप में किया एक को गिरफ्तार। थाना सदर पेहवा पुलिस ने विदेश फ्रांस भेजने के नाम पर 14 लाख रुपये की धोखाधडी करने के आरोप में परमजीत उर्फ परम पुत्र सुच्चा सिंह वासी पीर बाबा कालोनी सरहिंद जिला फतेहगढ पंजाब को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की। यह जानकारी पुलिस प्रवक्ता रोशन लाल ने दी।


            जानकारी देते हुए पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि दिनांक 10 फरवरी 2019 को प्रेम सिंह पुत्र दर्शन सिंह वासी शिवा मार्किट पेहवा ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में बताया कि वह विदेश जाना चाहता था। अप्रैल 2017 में उसने अखबार में ए-स्टार ओवरसीज, मोहाली फेस-एस0सी0नं0 23 के विज्ञापन से प्रभावित होकर विज्ञापन में दिये गये फोन नम्बर पर कुलदीप सिंह पुत्र महल सिंह वासी कृष्ण नगर करनाल से बात की । कम्पनी लोगों को विदेश भेजने का काम करती थी। मनप्रीत सिंह पुत्र महल सिंह वासी कृष्ण नगर करनाल व अमनदीप वासी अमन ईन्जिनियरिंग वर्क्स करनाल भी इसी कम्पनी में बतौर सहायक काम करते थे । दिनांक 28 सितम्बर 2017 को कुलदीप सिंह, मनप्रीत सिंह व अमनदीप उसके घर आये और उन्होंने उसको विश्वास दिलाया कि वह 60 दिनों उसका फ्रांस का वीजा लगवा देंगे । जिसके लिए उसको 14 लाख रुपये देने होंगे । 02 लाख रुपये एडवांस व  बकाया राशि वीजा लगने के बाद देने की बात तय हो गई। दिनांक 05 अक्तुबर 2017 को उसने 02 लाख रुपये उनको दे दिए। आरोपियों ने उसको बताया कि उनकी एक ब्रांच लीबङा काम्पलैक्स सरहिन्द पंजाब में है। जिसमें परमजीत उर्फ परम पुत्र सुच्चा सिंह वासी पीर बाबा कालोनी सरहिंद जिला फतेहगढ पंजाब व उसकी पत्नी आईलेटस सैन्टर भी चलाते हैं । कुलदीप सिंह व परमजीत ने उसको कहा कि अगर आपको वीजा जल्दी लगवाना हो तो 03 लाख रुपये अभी देने होंगे । जिसने उनको 03 लाख रुपये दे दिये। उन्होंने उसके नकली कागजात तैयार करके उसको दिल्ली अम्बैसी में ले गये और फाईल जमा करवा दी। उसके पास उनका फोन आया कि आपका वीजा लग गया है। उन्होंने उसको वीजा दिखाकर विश्वास दिलवाया और उससे बकाया 09 लाख रुपये भी ले लिए । उन्होंने उसको पासपोर्ट लगा हुआ वीजा दे दिया। उन्होंने दिनांक 20 नबम्बर 2017 को आस्ट्रिया की टिकट व आस्ट्रिया के होटल की बुकिंग के कागजात उसको दिये। दिनांक 20 नबम्बर 2017 व 26 नबम्बर 2017 को वीजा शो न होने के कारण उसको आफलोड कर दिया गया । जिस बात को लेकर वह उनसे झगडने लगा। उनके आश्वासन के बाद दिनांक 03 दिसम्बर 2017 को उसको फिनलैंड भिजवा दिया। वीजा शो न होने के कारण फिनलैंड पुलिस ने उसको जेल भेज दिया। लगभग साढे तीन महीने की सजा काटने के बाद वह भारत वापिस आया। जिसने उनसे पैसे देने की बात कि तो उन्होंने उसको पैसे देने से मना कर दिया और पैसे मांगने पर जान से मारने की धमकी दी। जिसकी शिकायत पर थाना पेहवा में मामला दर्ज करके मामले की जांच चौंकी ईन्चार्ज कराह साहब सहायक उप निरीक्षक जानपाल को सौंप दी। उसके बाद मामले की जांच चौंकी ईन्चार्ज गुमथला गढु सहायक उप निरीक्षक जयभगवान को सौंपी गई। उप निरीक्षक जयभगवान, ईएसआई. रिछपाल व होमगार्ड मिन्टु की टीम ने आरोपी परमजीत उर्फ परम पुत्र सुच्चा सिंह वासी पीर बाबा कालोनी सरहिंद जिला फतेहगढ पंजाब को गिरफ्तार करके माननीय अदालत में पेश किया। अदालत के आदेश से आरोपी को कारागार भेज दिया। जांच जारी है।

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ad