गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक उमरी द्वारा स्ट्रेस मैनेजमेंट एंड पर्सनैलिटी डेवलपमेंट विषय पर ऑनलाइन 100 से अधिक छात्रों ने भाग लिया - सचदेवा - Discovery Times (Maharashtra)

Breaking

Ad

Post Top Ad

Responsive Ads Here

गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक उमरी द्वारा स्ट्रेस मैनेजमेंट एंड पर्सनैलिटी डेवलपमेंट विषय पर ऑनलाइन 100 से अधिक छात्रों ने भाग लिया - सचदेवा

कुरुक्षेत्र 20 मई 2021 : गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक, उमरी, कुरुक्षेत्र ने  हार्टफूलनेस एजुकेशन ट्रस्ट के सहयोग से 13 से 20 मई 2021 तक   "स्ट्रेस मैनेजमेंट एंड पर्सनैलिटी डेवलपमेंट" विषय पर ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित किया। जिसमें मुख्य प्रवक्ता ब्रिगेडियर एम एस हुड्डा, डॉक्टर गौरव सैनी, सह प्राध्यापक, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कुरुक्षेत्र, श्री सुदर्शन चड्ढा रिटायर्ड डिप्टी जनरल मैनेजर, भारतीय संचार निगम लिमिटिड, डॉक्टर सविता, सह प्राध्यापक यू.आई. ई. टी.  कुरुक्षेत्र और श्री सुनील दहिया जी इसमें मुख्य प्रवक्ता थे। इसमें गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक, अंबाला शहर, गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक, उमरी, कुरुक्षेत्र और गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक, भिवानी के 100 से अधिक छात्रों ने भाग लिया । इस समय क्रोना महामारी के चलते बच्चों में काफी तनाव देखने को मिल रहा है। इसलिए इस समय बच्चों को इस तनाव से किस प्रकार छुटकारा मिले और वे अपने व्यक्तित्व को कैसे निखारे,  इस बारे में विस्तार से समझाया गया।

                                  धैर्य और अनुशासन ही इस कठिन समय से बाहर निकालेगी 

               इस संदर्भ में प्रधानाचार्य गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक उमरी, कुरुक्षेत्र कँवल सचदेवा ने अपनी राय साँझा की 
 आज इस मुश्किल दौर से हम गुजर रहे हैं यह कठिन  जरूर हो सकता है पर हम सब के अनुशासित व्यवहार और धैर्य से हम जल्दी इसको  पार कर लेंगे

हमें वैसा एक और सीख मिल गई है की हमारे जीवन में ऑक्सीजन बहुमूल्य है इसी सन्दर्भ में मेरी आप सभी से प्रार्थना है की जीवन में पेड़ लगाएं और अपने मित्रों और रिश्तेदारों को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने के लिए प्रेरित करें

            हम इंसान बहुत जल्दी सब कुछ भूल जाते हैं जब इस दौर से गुजर जाएंगे शायद आज के अनुभव को बिल्कुल दरकिनार कर देंगे

               इस समय से सीख लें अनुशासन का दृढ़ता से पालन करें तब तक करें जब तक हमारे भारतवर्ष में से एक एक करोना का केस ख़तम हो जाये और अपने सभी साथी मित्रों रिश्तेदारों और बच्चों को वृक्ष लगाने के लिए प्रेरित करें और अंत में यह जरूर कहूंगा कि इस कठिन दौर में सकारात्मक सोच रखिये अपने मित्रों रिश्तेदारों को बात करते रहिए हम उनसे चाहे मिल ना पाए लेकिन उनको हिम्मत बनाते रहिए सकारात्मक सोच और धैर्य एही इस समय की सबसे बड़ी दवाई है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ad